Followers

Google+ Followers

Saturday, February 12, 2011

ज़रा गौर फ़रमाए (1)

 हम तड़पते है दिन रात,
कहने को तुमसे एक बात।
अब क्या कहने को बाकी रहा,
सब कुछ बयां करती है यह रात॥
~'~hn~'~  

***********************************************

बिन बोले bye वो चले गए।
ऐसा लगा वो हमें ही बेवफ़ा कह गए॥
sms किया उसने तो पता चला,
कि वो तो अपनी वफ़ा निभा गए।
बस हमे ही बिन मौका दिए,
वो वफ़ा पे दो बातें सुना गए॥
~'~hn~'~  

***********************************************

कोई नही है।
अजी, कोई भी तो नही है॥
एक बस हम है और हमारी तन्हाई है।
क्या मेरे दिल में बजती हुई कोई शेनाई है॥
अगर कोई होता तो उसे सब बताती।
यह अपने दिल की सारी बातें मैं सब से इस तरह क्यों छुपाती॥
एक बस हम है और हमारी तन्हाई है।
क्या मेरे दिल में बजती हुई कोई शेनाई है॥
~'~hn~'~  

***********************************************

मेरे दिल के पागलपन की ऐसी हद थी।
यह मेरी उनसे मिलने की कैसी जिद्द थी॥
~'~hn~'~  

***********************************************

तुमसे मुझको कहना है यहीं।
कि तुम बिन मुझको जीना नहीं॥
तुमसे बिछड़ के जाए कहाँ।
तुम्ही से तो है यह प्यार भरा जहाँ॥
तुम बिन मेरी राते हैं सुनीं।
तुम बिन मेरी बातें हैं अधूरी॥
तेरी आँखों से देखे मैंने सपने हंसी।
तुम्हारे सिवा कोई और मेरे दिल में नहीं॥
~'~hn~'~  

***********************************************

6 comments:

Shahin said...

बहुत गौर किया आप के कहेने पर
लाजवाब अंदाज़ ए बयां है आप का !!!

Hema Nimbekar said...

dhanyawaad, shukriya....

there are more to come.....

ana said...

bahut sundar likha hai aapne

Hema Nimbekar said...

hi
ana

~~~~~~~~WELCOME TO MY BLOG~~~~~~~

धन्यवाद, आशा है आगे भी आप हमारे लेखन को उन्ही सहराती रहेंगी.

Anuradha said...

hi hema...sorry cudnt reply u earlier...u r doing awesome job girl...keep up the good work!!! luv ya

Hema Nimbekar said...

hey anuradha.....

thnx for visiting dear..

How u find my blog??

लिखिए अपनी भाषा में

Follow by Email

There was an error in this gadget
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...