Followers

Google+ Followers

Wednesday, January 30, 2013

माँ तेरे आँगन में

Today its about to one and half month passed since the shameful and outraged incident....I am still Sad and feel the pain inside and outside.... my heart and mind are still moaning....nothing has changed or society still in shock like me and still trying to sink this ghastly gang-rape....

Today is second blogoversary of my blog... but i m not in a mood to celebrate it...mixed feelings of sadness, pain, shame and outrage continue to come back and back again and again.... who to blame...those assailants, those circumstances, our system, our law and order, our leaders, our society, our mindset....who...???

Some of us still blame those six evils..some of us blame system...some of us blame law and order..some of us blame society and its mindset...even some of us still think its victim's mistake to went out with her male friend to watch late evening movie show...some of us blame her costumes/outfit..her conduct...or some of us blame the alcohol and male hormones...No one here to blame himself..his own thinking...ourselves and our mindset..always blame others...No one want to hear the real victim...

I know some people forgotten the incident and move on with their daily up and down life.....they doesn't really care about aftereffect...but some people are still there continuing their protest on Jantar-Mantar...they really want a change.....a big real change...not in capital of the country but in whole country....change in law and order..change in system...

but about us, in our own house...our daily life...our personal life...don't we want to change them...this big real change shouldn't be needed there...

Well i am not a leader or so called big personality to change the society and every house in society...but still being a girl/woman i want to be heard...i want to be respect..i want to be free as free as boys/men are...so friends i want to share some inner voice of my heart and mind on behalf of every victim of rape/gang rape/sexual harassment and every women...


माँ तेरे आँगन में

माँ तेरे आँगन में 
बहुत शोर है
माँ तेरे आँगन में 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
कौन सुनेगा मेरी पुकार 
माँ तेरे आँगन में

तेरे बेटे की खुशियों में बजती थालियों का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन खुश होगा मेरी नन्ही मुस्कानों पर
माँ तेरे आँगन में 

तेरे बेटो की किलकारियों का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में
कौन देखेगा मेरी अठखेलियाँ को
माँ तेरे आँगन में

तेरे घूँघट से नापे जाते शर्म मान सम्मानों का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन भाव करेगा मेरी आखों से झलकते सम्मानों का 
माँ तेरे आँगन में

तेरे पूर्वजों की रीती रिवाजों का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन खोलेगा बंद दरवाजों को
माँ तेरे आँगन में

तेरे बड़े बुजर्गों की नसीहतों का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन सुध लेगा मेरी हसरतों का
माँ तेरे आँगन में

तेरे उन् ज्ञान पंडितों के गिसे पुराने पोथे उपदेशों का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन अपनाएगा नए विचारों की धाराओं को 
माँ तेरे आँगन में 

तेरे पति की पतंग की डोर का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन सराहेगा मेरी ऊची उड़ान को 
माँ तेरे आँगन में 

तेरे आँगन में होती पंचों की मनमानी का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन शरण देगा दो प्यार करने वाली जवानी को 
माँ तेरे आँगन में 

तेरे पुरुष प्रधान संस्कारों का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन मानेगा स्त्री के अल्हंकारों को
माँ तेरे आँगन में 

तेरे सामने दिन रात गूंजती गालियों का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन बदला लेगा उन गालियों में होता मेरा अपमानों का 
माँ तेरे आँगन में 

तेरे खुद की असुरक्षा का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में
कौन सोचेगा मेरी सुरक्षा का 
माँ तेरे आँगन में 

तेरे बदन पे पड़ते बीडी शराब के निशानों का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन मलहम लगाएगा दिल के घावों पे 
माँ तेरे आँगन में 

हवस की भूख मिटाते उन दरिंदो की बेशर्मी का 
बहुत शोर है 
बहुत शोर है 
माँ तेरे आँगन में 
कौन रखेगा हिसाब हुए जो मेरे साथ कुकर्मों का 
माँ तेरे आँगन में 
~'~hn~'~
(Dedicated to all rape victims especially Delhi gang-rape victim and to all women who faced any kind of gender discrimination ....
Written after "Delhi Gang-Rape--16th Dec 2012")

How u find my blog??

लिखिए अपनी भाषा में

Follow by Email

There was an error in this gadget
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...